You are here
Home > Blog > सुरक्षित भविष्य और अच्छे रिटर्न के लिए निवेश

सुरक्षित भविष्य और अच्छे रिटर्न के लिए निवेश

investing-for-secure-future-and-good-returns

कहां निवेश करना है? Where to invest?

पिछले पोस्ट में हमने ये जान लिया है कि निवेश क्यों करना है, अब हमारा अगला प्रश्न होगा –  कहां निवेश करे, और वे कौन से रिटर्न हैं जो निवेश करके हमारी उम्मीद पूरी कर सकते हैं।

कहां निवेश करना है? जब निवेश करने की बात आती है तो हमें एक एसेट क्लास (Asset Class) चुनना पड़ता है जो जोखिम और बेहतर रिटर्न के लिए अनुकूल हो। एक एसेट क्लास जिसमें विशेष जोखिम और वापसी रिटर्न विशेषताओं को ध्यान में रखते हुए हम कर सकते हैं। निम्नलिखित कुछ लोकप्रिय परिसंपत्ति वर्ग (Asset Class) हैं:

  1. निश्चित आय के साधन (Fixed Income Instruments)
  2. इक्विटी (Equity)
  3. जिंसों (कीमती धातुओं) Commodities (precious metals)
  4. रियल एस्टेट (Real estate)

निश्चित आय के साधन (Fixed Income Instruments)

ये बहुत सीमित जोखिम के साथ निवेश योग्य साधन हैं और इसमें रिटर्न का भुगतान निवेशक को ब्याज के रूप में किया जाता है जो विशेष निश्चित आय साधन के आधार पर होता है। ब्याज का भुगतान त्रैमासिक, अर्ध-वार्षिक या वार्षिक अंतराल का हो सकता है। जमा की अवधि के अंत में, (जिसे परिपक्वता अवधि भी कहा जाता है) पूंजी निवेशक को वापस कर दी जाती है।

निश्चित आय निवेश में निम्नलिखित शामिल हैं:

  1. बैंकों द्वारा प्रस्तावित सावधि जमा योजना
  2. भारत सरकार द्वारा जारी किए गए बांड
  3. कॉर्पोरेट्स सेक्टर द्वारा जारी किए गए बांड
  4. सरकार संबंधित एजेंसियों जैसे एनएचएआई (NHAI), हुडको (Hudco) आदि द्वारा जारी किए गए बांड
  5. कर्मचारी भविष्य निधि (EPF)
  6. व्यक्तिगत भविष्य निधि (PPF)
  7. लघु बचत योजनाएं (डाक घर बचत योजनाएं, सुकन्या समृद्धि योजना, राष्ट्रीय पेंशन योजना, नेशनल सेविंग सर्टीफिकेट, किसान विकास पत्र आदि
  8. म्यूचुअल फंड





 

इक्विटी (Share)

इक्विटी में निवेश में सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध कंपनियों के शेयर खरीदना शामिल है। हम कुछ अच्छे चुनिंदा शेयरों में निवेश कर सकते हैं. शेयरों का कारोबार नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) दोनों में किया जाता है।

हालांकि इक्विटी में निवेश निश्चित आय साधन के विपरीत कोई पूंजी गारंटी नहीं होती है। लेकिन इक्विटी निवेश से रिटर्न बेहद आकर्षक हो सकता है। भारतीय इक्विटीज ने पिछले 15 वर्षों में 14% – 15% CAGR (चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर) के करीब रिटर्न दिया किया है।

कुछ बेहतरीन और अच्छी तरह से चलने वाली भारतीय कंपनियों में निवेश करने से लंबी अवधि में 20% से अधिक CAGR का रिटर्न मिलता है। ऐसे निवेश के अवसरों की पहचान करने के लिए कौशल, कड़ी मेहनत और धैर्य की आवश्यकता होती है।

365 अधिक दिनों के लिए धारित इक्विटी निवेशों पर करा-धान के अंतर्गत 10% कर लगाया जाता है, यदि लाभ 1 अप्रैल 2018 से शुरू होने वाले 1 लाख रुपये से अधिक है (पहले ऐसे निवेश कर मुक्त थे)। यह तुलनात्मक रूप से अन्य परिसंपत्ति वर्गों की तुलना में कर की कम दर है

कमोडिटी – बुलियन (Commodity-Bullion)

सोने और चांदी में निवेश सबसे लोकप्रिय निवेशों में से एक माना जाता है। लंबी अवधि में सोने और चांदी में मूल्य की सराहना की गई है। इन धातुओं में निवेश से पिछले 20 वर्षों में लगभग 8% का सीएजीआर रिटर्न मिला है। सोने और चांदी में निवेश करने के कई तरीके हैं. हम गहने या एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF) के रूप में निवेश कर सकते हैं।

रियल एस्टेट (Real Estate)

रियल एस्टेट में निवेशकों के लिए निवेश का बेहतरीन मौका मिलता है। प्रॉपर्टी की क़ीमतें हर गुजरने वाले दिन के साथ बढ़ रही है रियल एस्टेट (Real Estate) निवेश में वाणिज्यिक और गैर वाणिज्यिक भूमि का लेन-देन (खरीदना और बेचना) शामिल है। विशिष्ट उदाहरणों में साइट, अपार्टमेंट और वाणिज्यिक भवनों में लेन-देन शामिल है। अचल संपत्ति निवेश से आय के दो स्रोत हैं – किराये की आय, और और निवेशित राशि की पूंजी में वृद्धि।

लेन-देन की प्रक्रिया काफी जटिल हो सकती है जिसमें दस्तावेज़ों का कानूनीसत्यापन शामिल है । रियल एस्टेट निवेश में नकद परिव्यय आमतौर पर काफी बड़ा होता है । अचल संपत्ति द्वारा उत्पन्न रिटर्न को मापने के लिए कोई आधिकारिक मीट्रिक नहीं है, इसलिए इस पर टिप्पणी करना जरा कठिन होगा ।

जैसे की हमने पिछले लेख (Need To Invest. निवेश करने की आवश्यकता क्यों है?) में बताया था की 20,000/- रुपये अधिशेष नक़दी के रूप में हमारे पास बचता है, अब इस अधिशेष नक़दी के निवेश करने के हमारे प्रारंभिक उदाहरण पर वापस जाना यह देखना दिलचस्प होगा कि 20 वर्षों के अंत तक किसी भी एक-निश्चित आय, इक्विटी या बुलियन में निवेश करने पर कितना बचा होगा।

  1. प्रति वर्ष 9% की औसत दर से निश्चित आय में निवेश करके, कॉर्पस 3.3 करोड़ रुपए हो जाएगा।
  2. 15% प्रतिवर्ष की औसत दर से इक्विटी में निवेश करने पर, कॉर्पस 4.5 करोड़ रुपए हो जाएगा।
  3. औसतन 8% प्रति वर्ष की दर से बुलियन में निवेश करने से, कॉर्पस 3.09 करोड़ रुपए हो जाएगा।

स्पष्ट रूप से देखा जाय तो इक्विटी (Share Bazaar) में हमें सबसे अच्छा रिटर्न मिलता है, खासकर जब हमारे पास लम्बे समय के निवेश का दृष्टिकोण होता है।




निवेश के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

जानबूझकर निवेश में सभी परिसंपत्ति वर्गों (Asset Classes) का एक मजबूत मिश्रण होना चाहिए। विभिन्न परिसंपत्ति वर्गों के बीच अपने निवेश में विविधता लाने के लिए यह स्मार्ट है। संपत्ति वर्गों में धन आवंटित करने की तकनीक को ‘एसेट आवंटन’ कहा जाता है।

उदाहरण के लिए, एक युवा पेशेवर अपनी आयु और उसके लिए उपलब्ध निवेश के वर्षों को देखते हुए अधिक जोखिम लेने में सक्षम हो सकता है। आमतौर पर निवेशक को अपनी निवेश योग्य राशि का लगभग 70% इक्विटी में, 20% कीमती धातुओं में और बाकी का फिक्स्ड इनकम निवेश में आवंटित करना चाहिए।

समान औचित्य के साथ, एक सेवानिवृत्त व्यक्ति अपनी आय का 80 प्रतिशत निश्चित आय में, 10 प्रतिशत इक्विटी बाजारों (Stock Market) में और 10 प्रतिशत कीमती धातुओं में निवेश कर सकता है। जिस अनुपात में परिसंपत्ति वर्गों (Asset Classes) में निवेश का आवंटन होता है, वह निवेशक की जोखिम लेने की क्षमता पर निर्भर करता है।

निवेश करने से पहले किन बातों का ध्यान रखें

निवेश एक बढ़िया विकल्प है, लेकिन इससे पहले कि आप निवेश करें, निम्न के बारे में पता होना अच्छा है :

  1. रिस्क एंड रिटर्न (Risk & Return) हाथ से जा भी सकता है आ भी सकता है। जोखिम अधिक तो वापसी भी अधिक। जोखिम कम तो वापसी भी कम हो सकती है।
  2. यदि आप अपनी मूल राशि की रक्षा करना चाहते हैं तो निश्चित आय में निवेश एक अच्छा विकल्प है। यह अपेक्षाकृत कम जोखिम भरा है। हालांकि जब आप मुद्रास्फीति Inflation (महंगाई दर) के लिए रिटर्न को समायोजित करते हैं तो आपके पास पैसे खोने का जोखिम होता है। उदाहरण के लिए  – एक सावधि जमा जो आपको 9% देता है जब मुद्रास्फीति 10% होती है मतलब आप प्रति वर्ष 1% खो रहे हैं। फिक्स्ड इनकम निवेश अल्ट्रा रिस्क वाले निवेशकों के लिए सबसे उपयुक्त है
  3. इक्विटी (Share) में निवेश एक बढ़िया विकल्प है। यह समय की लंबी अवधि में मुद्रास्फीति को हराने के लिए जाना जाता है। ऐतिहासिक रूप से इक्विटी निवेश ने 14-15% के करीब रिटर्न उत्पन्न किया है। हालांकि, इक्विटी निवेश जोखिम भरा हो सकता है
  4. सोने और चांदी को अपेक्षाकृत अधिक सुरक्षित माना जाता है लेकिन ऐसे निवेश पर ऐतिहासिक रिटर्न बहुत उत्साहजनक नहीं रहता है।
  5. रियल एस्टेट (Real Estate) निवेश के लिए नक़दी के बड़े परिव्यय की आवश्यकता होती है और इसे कम मात्रा में नहीं किया जा सकता है। अचल संपत्ति निवेश के साथ तरलता एक और मुद्दा है – आप जब चाहें ख़रीद या बेच नहीं सकते हैं। आपको हमेशा अपने साथ लेन-देन करने के लिए सही समय और सही ख़रीदार या विक्रेता का इंतजार करना होगा।

धन्यवाद


यदि आपके मन में इस Blog Post के संबंधित कोई भी प्रश्न है तो कृपया नीचे Comment ज़रुर करें।

कृपया हमारे Blog Post के प्रति अपनी ख़ुशी दर्शाने के लिए इसे Facebook, Twitter, Google+ और LinkedIn इत्यादि Social Network पर शेयर कीजिए।

ऐसे ही और Informational Posts पढ़ते रहने के लिए और नए Blog Posts के बारे में Notifications प्राप्त करने के लिए आज ही हमें Subscribe कीजिए।

शेयर बाज़ार में बिना जानकारी के निवेश जोखिम से भरा हो सकता है। इस ब्लॉग के माध्यम से दी गई सभी जानकारी Education Purpose के लिए है, किसी भी तरह का निवेश करने पहले अपने फाइनेंसियल सलाहकार से जरुर सलाह करें।

कृपया शेयर कीजिए....
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 4
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    4
    Shares
MERA SHARE BAZAAR
MERA SHARE BAZAAR
नमस्कार दोस्तों मेरा शेयर बाजार हिंदी भाषा में शेयर बाजार की जानकारी देने वाला ब्लॉग है। नए लोग इस बाजार में आना चाहते हैं उन्हें सही से मार्गदर्शन देने का प्रयास करती है। इसके अलावा फाइनेंसियल प्लानिंग, पर्सनल फाइनेंस, इन्वेस्टमेंट, पब्लिक प्रोविडेंड फण्ड (PPF), म्यूच्यूअल फंड्स, इन्शुरन्स, शेयर बाजार सम्बंधित खास न्यूज़ भी समय -समय पर देते रहते हैं। धन्यवाद्
https://www.merasharebazaar.com/

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top